Uncategorized

राजनीति की पाठशाला – भाग १

हमारे देश में बहुत से नेता हैं और वो बहुत राजनीति करते हैं , कुछ सीख के आते हैं (जैसे लालू प्रशाद यादव) कुछ बिना सीखे आते हैं और आ के सीखते हैं (जैसे अरविन्द केजरीवाल), कुछ पढ़ लिख के आते हैं(जैसे डॉ मनमोहन सिंह, मनोहर पर्रिकर ) कुछ कम पढ़े लिखे और कुछ अनपढ़(जैसे जयललिता , राबड़ी देवी), कुछ भरपूर बैकग्रौउंग के होते हैं(जैसे राहुल गांधी, अखिलेश यादव) कुछ बिना बैकग्राउंड के , कुछ ईमानदार होते हैं (जैसे नरेंद्र मोदी) कुछ एकदम्मे बईमान (जैसे 2G स्कैम वाले, CoalGate वाले )।

काश इन नेताओं की भी नेतागीरी के लिए क्राइटेरिया होता, घुसने से पहले परीक्षा होती , इंटरव्यू होता और पूरा सर्टिफिकेट वेरिफिकेशन होता, जो अनपढ़ होते या कम पढ़े लिखे होते वो डिस्क्वालिफाइड होते और जिनकी फर्जी डिग्री होती उनको उसी समय जेल भेज दिया जाता , तो आज देश में ऐसे नेता न होते और देश की ऐसी हालत न होती , कोई भी नेता पढ़े लिखे आईपीएस अफसर को धमकी न दे पाता(जैसा कि मुलायम सिंह यादव ने किया) और उसकी धमकी की कम्प्लेन करने पर उसपर रेप का झूठा केस न दर्ज होता ।

सब बेकार राजनीति करते हैं, गन्दी राजनीति। ये कुछ उदहारण जैसे मायावती को ही देखो पिछडो की राजनीती के अलावा कुछ नहीं आता, मुलायम सिंह यादव मुसलामानों और यादवों की राजनीति के अलावा कुछ नहीं जानते इत्यादि इत्यादि । वैसे देश में एक आध पार्टी को छोड़ दिया जाये तो सब मुसलमान और कम्युनल राजनीति कर रहे हैं और खुद को बहुत बड़ा सेक्युलर मानते हैं (जो कि कथित सेक्युलर हैं) ।

अरे नेताओं , तुमको राजनीति सीखनी है तो जाओ सलमान खान से सीखो , कुछ नहीं तो दर्शकों को रिझाना तो सीख ही जाओगे , अरे समझे नहीं , डेमो देना पड़ेगा लगता है , तो ये लो ,”अरे नेताओं , सलमान खान की नै मूवी आ रही है उसमे बजरंगी भी है और भाईजान भी है , हिन्दू खुश मुसलमान भी खुश , मूवी हनुमान जी की है लेकिन रिलीज़ ईद के दिन , फिर दोनों खुश , देशभक्ति भी डाली गई है फिर दोनों खुश(कुछ मुसलमान अपवाद हैं जो पाकिस्तान से हमदर्दी रखते हैं) ”

मै तो कहू कि सलमान खान को एक राजनीति का स्कूल खोल देना चाहिए और एडमिशन के लिए एप्लीकेशन इन्वाइट करना चाहिए, क्योकि इसमें किक है पगले। इससे यहाँ के नेता काम से काम वोटरों को रिझाने के कुछ नए तरीके सीखेंगे और पुराने तरीको से छुटकारा मिल जायेगा (जैसे मायावती सरकार में कांसीराम की छुट्टी, मुलायम सरकार में मुसलमान नेताओं के नाम पे छुट्टी और चुनाव नजदीक आने पर महाराणा प्रताप के नाम की छुट्टी आदि) ।

सीखो , कुछ और नई चीजे सीखो , स्कूल जाओ , अज्ञातवास पर जाओ(राहुल गांधी की तरह) , स्वाध्याय करो लेकिन सीखो नहीं तो कांग्रेस की सरकार की तरह की पत्ता साफ़ हो जायेगा (२०१४ चुनाव) , कुछ काम करो (न की जातिवादी रवैया अपनाओ यूपी सरकार की तरह , और जनता का पैसा फ्री में लुटाओ दिल्ली सरकार की तरह) , दिखाओ की जनता ने जिस लिए तुम्हे चुना है उसपर तुम पूरे तो नहीं पर ८०% खरे तो उतर रहे हो, जो रिसोर्स हैं तुम्हारे पास (पावर , जस्टिस, पुलिस इत्यादि ) उनका सही उपयोग करो न की दुरुपयोग (जैसे की पुलिस का उपयोग भैस और मुर्गियां खोजवाने में , जस्टिस का उपयोग अपराधियों को छोड़वाने में , पावर का उपयोग डरने धमकाने में ) , अगर कुछ नहीं करोगे तो जनता भी तुम्हारे लिए कुछ नहीं कर पायेगी (जैसे वोट देना) और फिर तुम्हारा भी पत्ता साफ़ हो जायेगा (जैसा कांग्रेस का हुवा है और यूपी सरकार का होने वाला है) ।

(258) Views

Facebooktwitterredditpinterest

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*