Opinion

दिल्ली सरकार के सर्कुलर पर सुप्रीम कोर्ट का हथौड़ा

एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट ने ये दिखा दिया कि किसी का कोई गलत फैसला वो बर्दास्त नहीं करेगा चाहे वो कहीं की सरकार का ही फैसला क्यों न हो । उदाहरण आज का ही फैसला जिसमे सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार के उस फैसले पे रोक लगा दी जो दिल्ली के सीएम ने किया था जिसमे ये कहा गया था कि अगर मीडिया कुछ ऐसा छापती है जो दिल्ली सरकार या सीएम की छवि ख़राब करे तो उसके खिलाफ कार्यवाई होगी । सुप्रीम कोर्ट ने फैसले पे रोक लगा कर एक सरकार की छवि को तानाशाह होने से बचा लिया है ।

माना कि मीडिया की कुछ खबरे हद से ऊपर होती हैं जो उनको नहीं छपनी चाहिए और मीडिया का कुछ ऐसा धड़ा भी है जो किसी के कहने पर दुष्प्रचार करता है और कुछ लोगों के इस कार्य से पूरी मीडिया बदनाम होती है लेकिन ये तरीका सही नहीं है कि अगर कोई आलोचना करता है या आपके गलत कामों को जनता को बताता है तो आप उस पर कार्यवाई करेंगे । जनाब अगर आप गलत काम करेंगे तो जनता को तो ये पता होना चाहिए कि आपने क्या गलत किया , क्या आप खुद के गलत कामों को जनता के सामने कभी बताएँगे कि हमने फलां गलत काम कर दिया है , आप कभी नहीं बताएँगे और इसी वक़्त के लिए मीडिया की जरुरत होती है ताकि देश और राज्य की जनता को सच्चाई का पता चले ।

सरकार में होने का मतलब आपको कुछ भी करने का अधिकार नहीं प्राप्त हो जाता , ये बात आपको ध्यान में रखनी चाहिए,  जनता ने आपको सेवक नियुक्त किया है शासक नहीं, अगर आप ऐसा तानाशाही रवैया अपनाएंगे तो जनता के पास बहुत ताकत है, जनता ने आपको जो अधिकार दिए हैं वो आपके अधिकार छीन भी सकती है, लेकिन जबतक सुप्रीम कोर्ट जैसी स्वतंत्र संस्था सरकार के फैसलों का अवलोकन करती रहेगी , गलत फैसलों को रोकती रहेगी इस समाज की मर्यादा बनी रहेगी और जनता अपने अधिकारों का सदुपयोग ही करेगी ।
मीडिया का ये जन्म सिद्ध अधिकार है कि वो लोगों तक सच्चाई पहुचाये, आलोचना करे, गलत चीजों और फैसलों का विरोध करे लेकिन मीडिया को दुष्प्रचार कतई नहीं करना चाहिए , अधिकार मिलने का मतलब ये नहीं कि आप उन अधिकारों का दुरुपयोग करें , कुछ भी बोले , कुछ भी छापें चाहे वो गलत हो या सही , मीडिया को इस बात का ध्यान रखना होगा कि उसके खुहद के कार्यों से उसकी खुद की छवि न खराब हो, जनता सब जानती है और जनता किसी को नहीं बख्शती ।

(120) Views

Facebooktwitterredditpinterest

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*